Friday, February 25, 2011

'दूसरों के Events कैच कैसे किये जाते हैं ?' आज की Class का विषय और इसका व्यवहारिक प्रशिक्षण

बड़ा ब्लागर बनने के लिए आप के अंदर बड़े गुणों का होना बेहद जरूरी है । सत्य सबसे बड़ा गुण है और इसे जाहिर करने के लिए साहस की जरूरत होती है , भय और लालच से मुक्त होने की जरूरत होती है । जब आप सच बोलेंगे तो यह उन लोगों के खिलाफ जाएगा जो स्वयंभू बड़े ब्लागर बने बैठे हैं । आप सच बोलिए मालिक आपको बहुत जल्द बड़ा देगा । आपको बड़े बड़े पहचानने भी लगेंगे और आपकी सच बोलने की आदत से डरने भी लगेंगे।
आप ब्लाग जगत की बड़ी बड़ी खबरों पर नज़र रखेंगे तो आपको बड़ा ब्लागर बनने में बहुत आसानी रहेगी ।
Events कैच कैसे करें ?
बड़े ब्लागर्स अपने सरोकार की खातिर पोस्ट लिखते हैं और उनकी पोस्ट दूसरे छोटे बड़े ब्लागर अपने सरोकार की खातिर टिप्पणियाँ करते हैं । इन्हें छकाने के लिए आप इनके इवेंट्स को कैच कर लीजिए । अगर आपको छोटा ब्लागर समझकर या अपनी अंध सांप्रदायिक पॉलिसी के कारण ये ब्लागर आपके ब्लाग पर आने से परहेज़ करते हैं तो आप उनकी क़लई खोल दीजिए ।
हम आपको इसका व्यवहारिक प्रशिक्षण देते हैं और पूरी दुनिया में यह अपने आप में ऐसी अकेली यूनिवर्सिटी है । बड़े ब्लागर्स ने इसकी स्थापना को हिंदी ब्लाग जगत की सबसे बड़ी घटना केवल अपनी गुटबाज़ी के कारण नहीं माना और 'नुक्कड़' ब्लाग ने इससे छोटी घटना को हिंदी ब्लाग जगत की सबसे बड़ी महाख़बर घोषित कर दिया और वह है भाई अजित वडनेरकर जी को उनके संकलन 'शब्दों का सफ़र' पर एक लाख रुपये की घोषणा ।
बस हमने तुरंत
commentsgarden.blogspot.com
और
lucknowbloggersassociation.blogspot.com
पर दो पोस्ट्स बनाकर सच सच कह दिया कि यह हिंदी ब्लाग जगत की सबसे बड़ी महाख़बर नहीं है ।
इसका प्रभाव यह हुआ कि मेरी पोस्ट को पढ़ना और उस पर कमेंट देना बड़े ब्लागर्स की मजबूरी बन गया और मेरी पोस्ट चंद मिनटों में ही हमारी वाणी की सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली पोस्ट्स में नज़र आने लगी ।
यह घटना आज की ताजा घटना है । इसे आपके व्यवहारिक प्रशिक्षण के लिए आम किया जाता है और साथ ही इस विषय पर यह मेरी तीसरी पोस्ट भी बन गई है जिससे बड़े ब्लागर्स में बिलबिलाहट का इज़ाफ़ा ही होगा ।
आप भी सच बोलें , मालिक आपको बड़ा ब्लागर बना देगा ।
---------------
हमारी वाणी के ज़रिये नुक्कड़ की पोस्ट को मात्र पच्चीस पाठकों ने पढ़ा , जबकि हमारी उनके इवेंट पर हमारी चार पोस्ट्स को १६० लोगों से ज्यादा ने पढ़ा . (दिनांक ८-३-2011)

7 comments:

शालिनी कौशिक said...

अनवर जमाल जी,आप बहुत सही बात कह रहे हैं और यही बात है कि आप का शायद यहाँ सबसे अधिक विरोध है किन्तु आप की बहादुरी काबिले तारीफ है क्योंकि इस मतलबी जगत में सच बोलने की हिम्मत हर एक में नहीं है..

शिव शंकर said...

अनवर जमाल जी ,आपकी यही शैली पसंद है की आप अपनी बात को बिना किसी डर भय के लोगो के सामने प्रस्तुत करते है और आप की बातो मै कुछ हद तक सच्चाई भी होती है .वो इंसान ही सच्चा होता है जो बिना किसी स्वार्थ के अपने बातो द्वारा सामने वाले की गलती को बताये .आगे भी आप ऐसा करते रहे लोगो के लिए अच्छा होगा .

अविनाश वाचस्पति said...

आपने नुक्‍कड़ का उदाहरण देकर ब्‍लॉगिंग को गौरवान्वित ही किया है। हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग की यह कार्यशाला बेहद पसंद आई। आपसे बहुत कुछ सीखने को मिल रहा है।

DR. ANWER JAMAL said...

@ जनाब अविनाश वाचस्पति जी ! पिछले दिनों एक विदेशी हवाबाज़ की आमद पर दिल्ली में एक ब्लागर मीट घटित हुई थी उस अवसर पर आपको मेरे एक 'मार्गदर्शक' मित्र ने देखा था और मुलाकात होने पर मुझसे कहा था कि
आपमें विनम्रता है ।
आपके मौजूदा कमेँट से भी इसी बात की पुष्टि हो रही है । आपकी आमद हमारे लिए भी तरक्की और खुशी का बायस है ।
शुक्रिया !

DR. ANWER JAMAL said...

@ शालिनी जी ! आप तो हमारी यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट हैं ही । आप इस क्लास में बताए गए उसूलों पर ख़ास तवज्जो दें ।

DR. ANWER JAMAL said...

@ शिव शंकर जी ! इंशा अल्लाह मैं आपकी अपेक्षाओं पर खरा उतरने की कोशिश करूंगा ।

संगीता पुरी said...

इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!