Saturday, April 30, 2011

'टेढ़ा है पर मेरा है' की भावना से ओत-प्रोत होते हैं बड़े ब्लॉगर

(पिछले सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए , गतांक से आगे )
(कृपया पिछले अंक  भी देखिये नीचे)

1- अगर किसी को बड़ा ब्लॉगर बनना है तो क्या उसे औरत की अक्ल से सोचना चाहिए ? Hindi Blogging
2- कैसा होता है एक बड़े ब्लॉगर का वैवाहिक जीवन ? Family Life

3- हरेक बड़ा ब्लॉगर जानता है कि ‘उसका सम्मान उसके गन्ने से है।‘ Ganna

4- एक बड़ा ब्लॉगर शौच कैसे करता है ? Charity begins from toilet.


'टेढ़ा है पर मेरा है' यह रहस्य भी हम पर शौचासन में ही प्रकट हुआ। हमने तो इसका मात्र सत्यापन ही किया है लेकिन जिस पर यह रहस्य पहली बार प्रकट हुआ होगा तो उस पर भी यह शौचासन में ही प्रकट हुआ होगा। यह सिद्धांत एक ब्लॉगर के दिल को पूरी तरह बदल कर रख देता है। हमारे दिल में तुरंत खयाल आया कि जब हम अपने टेढ़े वुजूद से प्यार करते हैं और इसकी भावनाओं का भी खयाल रखते हैं तो फिर अगर किसी ब्लॉगर में कोई कमी या कोई टेढ़ापन मौजूद है तो हम उससे प्यार क्यों नहीं कर सकते ?
इस खयाल के आते ही हमने दो नामी ब्लॉगर्स को लोहे के चने नाकों चबाने का ख़याल तुरंत ही छोड़ दिया ।
हमारा मन भी तुरंत हल्का हो गया ।
इट मीन्स हम शौचासन को उसके उच्चतम सोपान तक सिद्ध करने में सफल हो चुके थे ।
हक़ीक़त यह है कि धड़ेबंदियों के पीछे भी यही भावना काम करती है और इसका इलाज भी इसी तरीक़े से होगा, बिल्कुल होम्योपैथी के उसूल पर ।
भावना दूषित हो और मक़सद नाजायज़ हो तो समस्या जन्म लेती है और अगर भाव शुद्ध हो और लोक मंगल की भावना हो तो फिर समस्याओं का अंत हो जाता है । बड़ा ब्लॉगर वह होता है जो कि समस्याओं को हल करता है न कि वह जो कि नित नई समस्याएँ खड़ी करता है । आप क्या कर रहे हैं ?
यह देखना आपका काम है और अपना तो मैं देख ही रहा हूँ और आपको बता भी रहा हूँ कि टेढ़ा है पर मेरा है हरेक ब्लॉगर ।
और समाधान इसके सिवा कुछ और है भी तो नहीं और अगर हो तो आप बताएं ।
                                                                       (...जारी, आप पढ़ते रहिये जनाब)

2 comments:

Arunesh c dave said...

भाई एक ने कही दूसरे ने मानी दुनिया कहे दोनो ग्यानी ।

जो लोग अपने आप मे खुश हैं तो हम क्यो दुखी हों इसलिये पूरा मामला दफ़न करने योग्य है

रमेश कुमार जैन उर्फ़ "सिरफिरा" said...

श्रीमान जी,मैंने अपने अनुभवों के आधार ""आज सभी हिंदी ब्लॉगर भाई यह शपथ लें"" हिंदी लिपि पर एक पोस्ट लिखी है. मुझे उम्मीद आप अपने सभी दोस्तों के साथ मेरे ब्लॉग www.rksirfiraa.blogspot.com पर टिप्पणी करने एक बार जरुर आयेंगे.ऐसा मेरा विश्वास है.